SSPF के जरिए अपने कुल का नाम रौशन करने को बेताब हैं ‘दीपक चौधरी’

कहते हैं कि प्रतिभा किसी मुकाम पर जाकर नहीं ठहरती। वह उस मुकाम को नई ऊंचाई छूने का रास्ता बनाती है और एक दिन अपनी मंजिल पाकर रहती है। उत्तर प्रदेश राज्य के बुलंदशहर से संबंध रखने वाले दीपक चौधरी भी अपने सपने को सच करने का रास्ता तलाशने एसएसपीएफ के राष्ट्रीय शिविर में कड़ी मेहनत कर रहे हैं। खुर्जा के एल्पाइन पब्लिक स्कूल में पढ़ने वाले दीपक नैशनल स्कूल गेम्स में 100 मीटर और 200 मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल जीत चुके हैं और एसएसपीएफ के नैशनल कैंप में अपने सपने को हकीकत में बदलने के लिए खुद को तैयार करने आए हैं।

दीपक ऐसी पहल से गदगद हैं और उनकी आंखों में भी भारत के लिए खेलने का सपना साफ देखा जा सकता है। एसएसपीएफ ने उन्हें कई नए आयाम दिए हैं। नए अभ्यास से लेकर खास कोचों की देख रेख में वह सात दिन के शिविर में खूब मेहनत कर रहे हैं जिससे कि उन्हें खेलों में अपना भविष्य नजर आने लगा है।
दीपक शायद अभी भी किसी मौके के इंतजार में दर-दर भटक रहे होते लेकिन एसएसपीएफ ने उन्हें खुद को तराशने और विश्व पटल पर खुद को साबित करने का एक सुनहरा मौका दिया है। यही वजह है कि दीपक एसएसपीएफ की शुक्रिया अदा करते नहीं थक रहे हैं।
जाहिर है कि देश में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है और इस प्रतिभा को निखारने का जिम्मा एसएसपीएफ ने उठाया है जो कि इंडिया स्कूल कप से पहले देश भर में शिविर लगाकर इन देश के कोहीनूरों को तैयार कर रहा है। युवा सितारों को तराशने के लिए एसएसपीएफ ने भारतीय खेलों के कई नामी चेहरों को शामिल किया है इनमें 1982 में हुए एशियन गेम्स में 800 मीटर रेस के गोल्ड मेडलिस्ट चार्ल्स बोरोमियो मुख्य रूप से इन बच्चों के साथ अपना अनुभव बांटेंगे। एसएसपीएफ के बैनर तले होने वाले इंडिया स्कूल कप में देश के 11 राज्यों के बच्चे अपना हुनर दिखाएंगे और क्या पता यही से उनके देश के लिए खेलने का रास्ता भी तैयार हो जाए।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − six =